Breaking News
Home / News / World / डगलस स्टुअर्ट के उपन्यास ‘शग्गी बैन’ को 2020 का बुकर पुरस्कार

डगलस स्टुअर्ट के उपन्यास ‘शग्गी बैन’ को 2020 का बुकर पुरस्कार

डगलस स्टुअर्ट लंदन, 20 नवम्बर (भाषा) .न्यूयॉर्क में बसे स्कॉटलैंड के लेखक डगलस स्टुअर्ट को बृहस्पतिवार को उनके पहले उपन्यास ‘शग्गी बैन’ के लिए उन्हें 2020 का बुकर पुरस्कार मिला है । ‘शग्गी बैन’ की कहानी में ग्लासगो की पृष्ठभूमि है। दुबई में बसी भारतीय मूल की लेखिका अवनी दोशी का पहला उपन्यास ‘बर्नंट शुगर’ भी इस श्रेणी में नामित था। कुल छह लोगों के उपन्यास नामित थे। स्टुअर्ट ने कहा, ‘‘ मुझे विश्वास नहीं हो रहा। शग्गी एक काल्पनिक किताब है लेकिन किताब लिखना मेरे लिए बेहद सेहत बख़्श रहा।’’

44 वर्षीय लेखक 16 साल के थे जब उनकी मां का निधन अत्यधिक शराब पीने की वजह से हो गया था. लंदन के ‘रॉयल कॉलेज ऑफ आर्ट इन लंडन’ से स्नातक करने के बाद, ‘फैशन डिजाइन’ में करियर बनाने वह न्यूयॉर्क चले गए थे. कोरोना वायरस के मद्देनजर ‘बुकर प्राइज 2020′ के समारोह को लंदन के ‘राउंडहाउस’ से प्रसारित किया गया. सभी छह नामित लेखक एक विशेष स्क्रीन के जरिए समारोह में शामिल हुए. इस मौके पर अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा ने भी बुकर पुरस्कार प्राप्त उपन्यासों पर अपने विचार व्यक्त किए.

स्टुअर्ट लंदन के ‘रॉयल कॉलेज ऑफ आर्ट इन लंडन’ से स्नातक करने के बाद ‘फैशन डिजाइन’ में करियर बनाने न्यूयॉर्क चले गये थे। स्टुअर्ट ने केल्विन क्लेन, राल्फ लॉरेन और गैप सहित विभिन्न ब्रांडों के लिए काम किया है। उन्होंने यह किताब एक दशक पहले अपने खाली समय में लिखना शुरू किया था।

2020 बुकर पुरस्कार निर्णायक पैनल की अध्यक्षता साहित्यिक, आलोचक और पूर्व प्रकाशक मार्गरेट बसबी ने की। पैनल में लेखक ली चाइल्ड, समीर रहीम और प्रसारक लेमन सिसे और अनुवादक एमिली विल्सन शामिल थे।

Check Also

पहली स्वदेशी एंटी-शिप मिसाइल का परीक्षण सफल , नौसेना की ताकत में इजाफा

पहली स्वदेशी एंटी-शिप मिसाइल का परीक्षण सफल , नौसेना की ताकत में इजाफा

Share this on WhatsAppरक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन ने एक और कामयाबी हासिल की है। …

Gurukpo plus app
Gurukpo plus app