Breaking News
Home / Health / चिकनगुनिया से डरें नहीं… जाने इसके लक्षण, बचाव और उपचार

चिकनगुनिया से डरें नहीं… जाने इसके लक्षण, बचाव और उपचार

इन दिनों डेंगू और चिकनगुनिया के मामले लगातार बढ़ते ही जा रहे है। हर गली-मोहल्ले में इसे संक्रमित लोग देखने को मिल जायेंगे। चिकनगुनिया ने लोगों के दिल में डर बिठा दिया है और इसकी एक बहुत बड़ी वजह है कि लोगों को इस बीमारी के बारे में पूरी जानकारी ही नहीं है। बियानी टाइम्स की टीम ने इसके बारें में डॉ. प्रदीप मंगल से बात की। पेश है मुलाकात के कुछ अंश –
चिकनगुनिया क्या है एवं ये कैसे फैलता हैं?
चिकनगुनिया एक अफ्रीकी शब्द है जिसका मतलब होता है हड्डी टूटने जैसा दर्द। यह वायरस से फैलने वाली बीमारी है जो कि एडिज इजिप्टी मच्छर के काटने से होता है। चिकनगुनिया वायरस से संबंधित यह मच्छर किसी व्यक्ति को काटता है तो उसकी लार में यह वायरस पहुंच जाता है और वह व्यक्ति इस रोग का शिकार हो जाता है। मच्छर के काटने के ३ से ७ दिन में इसके लक्षण प्रकट होते है।
चिकनगुनिया के लक्षण क्या है?
ठंड लगकर बुखार आना, सिरदर्द, मांसपेशियों और जोड़ों में दर्द और सूजन, जी मचलना, भूख कम लगना, कमजोरी आना, प्रकाश सहन ना होना, आंखों में जलन होना, शरीर पर चकते निकलना आदि इसके लक्षण हैं। ज्यादा मरीजों में शरीर में दर्द और जोड़ों में सूजन और दर्द की तकलीफ ७ से १० दिनों तक बनी रहती है। वृद्ध मरीजों में यह लक्षण महीनेंभर तक रह सकते है।
चिकनगुनिया की जांच कैसे की जाती है?
चिकनगुनिया की जांच आरटीपी-सीआर टेस्ट और एलीजा टेस्टके द्वारा की जाती है। ९९ प्रतिशत केस में लक्षणों के आधार पर ही इलाज शुरू कर दिया जाता हैं। इन जांचों की जरूरत नहीं होती है।
चिकनगुनिया का इलाज कैसे किया जाता है?
चिकनगुनिया के वायरस नष्ट करने की कोई दवा अभी तक बाजार में उपलब्ध नही हुई हैं। बुखार आने पर बुखार कम करने के लिए पेरासिटामॉल दवा दी जाती है और जोडों एवं अन्य दर्द के लिए दर्दनाशक दवा दी जाती है लेकिन एसप्रिन जैसी खून को पतला करने वाली दवाईयों से बचा जाना चाहिए। चिकनगुनिया में रोगी को बहुत आराम करना चाहिए और पर्याप्त मात्रा में आहार और पेय पदार्थ लेना चाहिए। जोड़ों के दर्द के लिए फीजियोथैरेपी का उपयोग भी किया जा सकता है।
चिकनगुनिया से बचाव करने के लिए क्या एहतियात करना चाहिए?
घर के अन्दर एवं आसपास पानी जमा ना होने दें, घर में कीटनाशक का छिडक़ाव करें, खिडक़ी एवं दरवाजों में जाली लगाकर रखें, रात को सोते समय मच्छरदानी का उपयोग करें।

Check Also

जयपुर में फिटनेस के लिए ऑटोमेटिक टेस्टिंग स्टेशन शुरू:स्थानीय सेंटर पर जाने की जरूरत नहीं होगी, टू-व्हीलर की भी होगी जांच

राजस्थान के 83 फिटनेस सेंटर 1 अक्टूबर 2024 से बंद हो जाएंगे, क्योंकि सड़क परिवहन …

Gurukpo plus app
Gurukpo plus app