Breaking News
Home / Health / कोरोना का खतरा 39 फीसदी तक कम कर सकती है फ्लू की वैक्सीन

कोरोना का खतरा 39 फीसदी तक कम कर सकती है फ्लू की वैक्सीन

फ्लू की वैक्सीन कोरोना के संक्रमण को घटाने में मदद कर सकती है। कोरोना के मरीजों में यह कैसे काम करेगी, वैज्ञानिकों ने इसे भी समझाया है। रिसर्च करने वाली नीदरलैंड्स की रेडबाउंड यूनिवर्सिटी मेडिकल सेंटर के इम्यूनोलॉजिस्ट मिहाई नेटी कहते हैं, 2019-2020 की सर्दियों में जिन लोगों को फ्लू की वैक्सीन लगी थी उन पर कोरोना के असर को जाना गया। रिसर्च में सामने आया कि जिन लोगों को फ्लू की वैक्सीन दी गई उनमें कोरोना से संक्रमित होने का खतरा 39 फीसदी तक कम था।
वैज्ञानिकों का कहना है, फ्लू की वैक्सीन शरीर में इम्युनिटी यानी वायरस से लड़ने की क्षमता बढ़ाती है। यह खास तरह के साइटोकाइन स्टॉर्म को भी रोकने की कोशिश करती है। साइटोकाइन स्टॉर्म ऐसी स्थिति को कहते हैं, जब कोरोना का संक्रमण होने के बाद बीमारी से लड़ने वाला इम्यून सिस्टम बेकाबू होने लगता है। यह शरीर को नुकसान पहुंचाने लगता है। कोरोनावायरस और सीजनल फ्लू के लक्षणों में मामूली अंतर होता है। कोरोना के लक्षण ज्यादातर गले ओर सीने से जुड़े होते हैं। इसमें डायरिया भी हो सकता है। फ्लू में ज्यादातर लक्षण नाक से जुड़े होते हैं। फ्लू में गले में दर्द होना जरूरी नहीं। बलगम आ सकता है। अमेरिकी वैज्ञानिकों का कहना है, सर्दियों में कोरोना और फ्लू दोनों तरह के वायरस के संक्रमण का खतरा बढ़ सकता है। वैज्ञानिकों ने इस स्थिति को ‘ट्विनडेमिक’ नाम दिया है। इनका मानना है कि सर्दी में संक्रमण के खतरे को कम करने के लिए सभी अमेरिकी लोगों को फ्लू की वैक्सीन जरूर लगवानी चाहिए।

Check Also

International Yoga Day:अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस कल, जानें साल 2022 की थीम

International Yoga Day:अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस कल, जानें साल 2022 की थीम

Share this on WhatsAppप्रत्येक साल 21 जून को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मनाया जाता है. इस …

Gurukpo plus app
Gurukpo plus app