Home / News / ब्रिटिश वैज्ञानिकों ने बनाया कोरोना इन्हेलर

ब्रिटिश वैज्ञानिकों ने बनाया कोरोना इन्हेलर

कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण के बीच एक तरफ इसकी वैक्सीन तैयार करने में विभिन्न देशों के वैज्ञानिक लगे हुए हैं तो दूसरी तरफ इसकी दवा बनाने की तैयारी चल रही है। अबतक पहले से उपलब्ध दवाओं से कोरोना के लक्षणों का इलाज किया जा रहा है, जिससे लोग ठीक हो रहे हैं। इस बीच ब्रिटिश वैज्ञानिकों ने एक ऐसा इन्हेलर तैयार किया है, जो कोरोना संक्रमित मरीजों को वायरस से लड़ने में मदद करेगा। बताया जा रहा है कि इस इन्हेलर में खास तरह का प्रोटीन है, जो वायरस से लड़ता है और कोरोना के मरीजों को राहत पहुंचाता है।
इंटरफेरान बीटा वायरस को रोकेगा-शोधकर्ताओं के मुताबिक, इन्हेलर में मौजूद दवा में खास तरह का प्रोटीन है जिसे इंटरफेरान बीटा कहा जाता है। यह प्राकृतिक रूप से शरीर में तब बनता है जब वायरस पहुंचता है। कोरोना मरीजों में इसे देकर उनकी वायरस से लड़ने में मदद की जा सकेगी।

फेफड़ों पर दुष्प्रभाव रोकेगा इन्हेलर

ब्रिटेन की साउथैम्प्टन यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने इस इन्हेलर को तैयार किया है। उनका कहना है कि इस इन्हेलर में ऐसे ड्रग का इस्तेमाल किया गया है, जो कोरोना  संक्रमण के बाद फेफड़ों पर वायरस के दुष्प्रभाव को कम करता है। इस ड्रग का कोड SNG001 बताया गया है।

ऐसे काम करती है दवा

शोधकर्ताओं के मुताबिक, जब मरीज इन्हेलर से ड्रग को खींचते हैं तो यह सीधेतौर पर फेफड़ों तक पहुंचती है और वायरस के असर को कम करती है। यह मरीजों की हालत नाजुक होने से रोकेगी। ट्रायल सफल होने पर साल के अंत तक इसके लाखों डोज तैयार किए जा सकेंगे।

Check Also

जानें क्या है मंकी पॉक्स, लक्षण व बचाव

मंकीपाक्स के क्या हैं लक्षण और कैसे फैलता है संक्रमण, ऐसे करे बचाव

Share this on WhatsAppक्या है मंकी पॉक्स ? मंकी पॉक्स एक वायरल डिजीज है। ये …

Gurukpo plus app
Gurukpo plus app