Breaking News
Home / News / India / आरटीजीएस: अब चौबीस घंटे सातों दिन करें आरटीजीएस

आरटीजीएस: अब चौबीस घंटे सातों दिन करें आरटीजीएस

आरटीजीएस: बैंक ग्राहकों को बड़ी सुविधा देते हुए रिजर्व बैंक ने रविवार रात 12.30 बजे से फंड ट्रांसफर की आरटीजीएस सुविधा को 24X7 यानी चौबीस घंटे सातों दिन के लिए लागू करने का ऐलान किया है। आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने ट्वीट कर यह सूचना दी। आरटीजीएस यानी रियल टाइम ग्रॉस सेटलमेंट सिस्टम यानी ट्रांसफर करते ही पैसा दूसरे के खाते में पहुंच जाएगा। यह बैंक ग्राहकों के लिए बड़ी खबर है क्योंकि अब उन्हें फंड ट्रांसफर के लिए बैंक जाने या बैंक खुलने का इंतजार नहीं करना होगा। आरबीआई ने आरटीजीएस के लिए अक्टूबर में यह ऐलान किया था और अब यह सुविधा लागू होने जा रही है। आरटीजीएस के तहत न्यूनतम ट्रांसफर अमाउंट दो लाख रुपए है। वहीं अधिकतम राशि की कोई सीमा नहीं है।

समझिए आरटीजीएस और एनईएफटी का फर्क

बता दें, ऑनलाइन बैंक ट्रांसफर के लिए NEFT, RTGS और आईएमपीएस का इस्तेमाल किया जाता है। एनईएफटी यानी राष्ट्रीय इलेक्ट्रॉनिक निधि अंतरण (National Electronic Funds Transfer -NEFT)। आईएमपीएस यानी तत्काल भुगतान सेवा (Immediate Payment Service)।

NEFT के माध्यम से फंड ट्रांसफर मुख्य रूप से छोटे बचत खाताधारक करते हैं। RTGS का उपयोग बड़े फंड ट्रांसफर के लिए कंपनियां या संस्थाएं इत्यादि करते हैं | NEFT के माध्यम से भुगतान एक समय के बाद होता है लेकिन RTGS के माध्यम से भुगतान तुरंत उसी समय हो जाता है। NEFT का उपयोग छोटी राशि को भेजने के लिए किया जाता है जबकि RTGS के माध्यम से कम से कम 2 लाख रुपये का ट्रांसफर करना जरूरी होता है जबकि NEFT के मामले में ऐसी कोई न्यूनतम या अधिकत्तम की सीमा नहीं है।

क्या है आरटीजीएस

आरटीजीएस डिजिटल फंड ट्रांसफर करने का एक तरीका है। इसकी मदद से रियल टाइम में पैसे ट्रांसफर हो जाते हैं। RTGS का उपयोग मुख्य रूप से बड़ी रकम के ट्रांसफर के लिए होता है। इसके तहत न्यूनतम 2 लाख रुपये भेजे जा सकते हैं जबकि अधिकतम राशि भेजने की सीमा 10 लाख रुपये है। आरटीजीएस के जरिए 2 लाख से 5 लाख तक का फंड ट्रांसफर करने के लिए अधिकतम शुल्क 24.5 रुपये है। 5 लाख से अधिक के फंड ट्रांसफर के लिए बैंक 49.5 रुपये का तक फीस ले सकता है। इस पर जीएसटी भी देनी पड़ती है। देश का सबसे बड़े बैंक एसबीआई आरटीजीएस पर कोई फीस नहीं लेता है।

कब हुई थी शुरुआत

RTGS की शुरुआत 26 मार्च 2004 को हुई थी। उस समय केवल 4 बैंक ही इस सेवा से जुड़े थे। लेकिन अब देश के 237 बैंक इस सिस्टम के जरिए 4.17 लाख करोड़ रुपये के लेन-देन को प्रतिदिन पूरा करते हैं। नवंबर में आरटीजीएस से औसत 57.96 लाख रुपये का लेनदेन हुआ। फिलहाल दूसरे और चौथे शनिवार को छोड़कर महीने के सभी कार्यदिवस पर सुबह 7 बजे से शाम 6 बजे तक RTGS की मदद से फंड ट्रांसफर किया जाता है।
-एजेंसियां

Check Also

भारत ने रचा इतिहास,अग्नि-4 मिसाइल का किया सफल परीक्षण

Share this on WhatsAppभारत ने 06 जून 2022 को परमाणु हमले में सक्षम अग्नि-4 बैलिस्टिक …

Gurukpo plus app
Gurukpo plus app