Home / Bhakti / उलझन रहित जीवन बेकार – स्वामी शरणानंद

उलझन रहित जीवन बेकार – स्वामी शरणानंद

उलझन रहित जीवन बेकार – स्वामी शरणानंद

प्रत्येक उलझन उन्नति का साधन है, डरो मत ! उलझन रहित जीवन बेकार है। संसार में उन्हीं प्राणियों की उन्नति हुई है जिनके जीवन में पग-पग पर उलझनें आईं हैं । उलझने जाग्रति को पैदा करती हैं और प्रमाद(घमंड) को खा जाती है। व्यक्ति में छिपी शक्ति को विकसित करती है परंतु जो प्राणी समस्यों से डरता है उसे समस्याएं अपना दास यानि नौकर बना लेती है। अपने पर कृपा करना सीखो और किसी दूसरे का दोष मत देखो। यदि हो सके तो अपनी निर्बलताओं को देखो, इनको स्वीकार कर मिटाने का प्रयास करो और हार को स्वीकार मत करो।

Check Also

प्रधानमंत्री ने दुनियाभर में ख्वाजा चिश्ती को मानने वाले लोगों को बधाई और शुभकामनाएं दीं व अजमेर शरीफ के लिए भेजी ‘चादर’

Share this on WhatsAppनई दिल्ली: अजमेर में ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती की प्रसिद्ध दरगाह पर प्रधानमंत्री …

Apply Online
Admissions open biyani girls college