Home / Bhakti / उलझन रहित जीवन बेकार – स्वामी शरणानंद

उलझन रहित जीवन बेकार – स्वामी शरणानंद

उलझन रहित जीवन बेकार – स्वामी शरणानंद

प्रत्येक उलझन उन्नति का साधन है, डरो मत ! उलझन रहित जीवन बेकार है। संसार में उन्हीं प्राणियों की उन्नति हुई है जिनके जीवन में पग-पग पर उलझनें आईं हैं । उलझने जाग्रति को पैदा करती हैं और प्रमाद(घमंड) को खा जाती है। व्यक्ति में छिपी शक्ति को विकसित करती है परंतु जो प्राणी समस्यों से डरता है उसे समस्याएं अपना दास यानि नौकर बना लेती है। अपने पर कृपा करना सीखो और किसी दूसरे का दोष मत देखो। यदि हो सके तो अपनी निर्बलताओं को देखो, इनको स्वीकार कर मिटाने का प्रयास करो और हार को स्वीकार मत करो।

Check Also

Yearly Calendar 2021: 2021 के प्रमुख व्रत और त्योहार

Yearly Calendar 2021: 2021 के प्रमुख व्रत और त्योहार

Share this on WhatsAppYearly Calendar 2021: आइए जानते हैं जनवरी 2021 से लेकर दिसंबर 2021 …

Gurukpo plus app
Gurukpo plus app