Home / Creativity / काव्य महफ़िल में बिखेरे कवियों ने प्रेम के रंग

काव्य महफ़िल में बिखेरे कवियों ने प्रेम के रंग

जयपुर। सुमधुर की काव्य महफिल में कविता, गीत,गजल, छन्द आदि में ढलकर सबके दिलों में इस तरह उतरी कि होठों पर वाह व दिल में और सुनते रहने की चाह रही। यह नजारा था सुमधुर संस्था के तत्वावधान में रिद्धि सिद्धि स्थित होटल सफारी में वेलेंटाइन ड़े से पहले आयोजित सुमधुर की काव्य महफ़िल-6 का| दीप प्रज्वलन के बाद कार्यक्रम की शुरुआत में सुमधुर संस्था की और से प्रवीण नाहटा एकं कर्नल अमरदीप ने मुख्य अतिथि पवन गोयल को प्रमाण पत्र एवं शॉल भेंट कर उनका सम्मानन किया।| इसके बाद पवन गोयल ने आगन्तुक कवियों का स्वागत करते हुए कहा कि युवाओं में रचनात्मकता के प्रति रुझान समय और समाज की आवश्यकता है। इसलिए ऐसे कार्यक्रमों का नियमित आयोजन किया जाना चाहिए।

इस कार्यक्रम में शहरयार बेग ने इस अंदाज में सुनाया कि समझदार लोग इशारा समझते हैं वरना अक्सर लोग दुबारा समझते हैं, इसके बाद अरविंद कुमावत ने जोगी रा की तान छेड़ी, विशाल गुप्ता ने “मैं अकेला कब होता हूँ, रोज़ ही तुमको पाता हूँ।तुम कहती हो भूल गया मैं, तो फ़िर याद दिलाता हूँ।” से महफ़िल में चार चांद लगाए, इसके बाद शिवम तिवारी ने “ज़िन्दगी भर के लिए साथ निभाने वाला, आग बरसा के गया प्यास बुझाने वाला” सुनकर दाद बटोरी। कर्नल अमरदीप सिंह ने स्वेटर और प्रेम सुनाकर माहौल में प्रीत का रस घोल दिया| डॉ. निकिता त्रिवेदी ने “नेकी हो तो करना चाहिये साहिब गलती हो तो डरना चाहिये साहिब” सुनाकर महफ़िल को अलग रंग दिया, फिर शिवानी जयपुर ने “पानी तो पानी है सबकी ज़िदग़ानी है, कौन रोकेगा इसे कहता कहानी है ” सुनाकर दिलों को छू लिया| सूर्यप्रकाश उपाध्याय ने “झूठ मूठ के रिश्तों की ना गठरी ढोनी चाहिए, उनका हो जगराता नींदे अपनी खोनी चाहिए। जज़्बातों का बने तमाशा अधरझूल में रहने से, नफरत या मोहब्बत पूरे दिल से होनी चाहिए” सुनाकर श्रोताओं की वाहवाही पाई।| इसके बाद भव्य सोनी ने अपनी शायरी के रंग घोलते हुए कहा “मेरी ग़ज़लें ही मेरी मौत का सबब होंगी, ये ग़ज़लें ही लाजवाल कर देंगी मुझे” और रोहित कृष्ण नंदन ने प्रेम गीत “इस ज़िन्दगी के गम कब तक भला संभालें, दो पल जो मिल लें उनसे जी भर के मुस्करा लें”, सुनाया।

कार्यक्रम में शहरयार बेग,अरविंद कुमावत, शिवम तिवारी,भव्य सोनी, रविन्द्र पारीक, शिवानी जयपुर, डॉ. निकिता त्रिवेदी, विवेकानंद, कुणाल आचार्य, राजेश खंडेलवाल, कर्नल अमरदीप सिंह, नवीन कानूनगो, अंकित शर्मा, नितेश ज्योतिषी, अनुश्री जैन, दीपक आजाद, कपिल शर्मा, भगवान सहाय अनन्त, ऋतुराज पांडे,भव्य सोनी, ऋषि दीक्षित,दीपशिखा,के.के सैनी, कविराज चेतन, गर्वित विजय सहित तकरीबन 60 से अधिक कवियों ने अपनी काव्य रचनाएं पेश कीं|
कार्यक्रम के अंत में होटल सफारी के निदेशक पवन गोयल ने फरवरी का स्टार पोएट ऑफ मन्थ का अवार्ड विशाल गुप्ता को प्रदान किया| कार्यक्रम का संचालन शिवम तिवारी ने किया। अंत में प्रवीण नाहटा ने धन्यवाद देते हुए कहा कि आने वाले समय में सुमधुर पोएट्री कम्पटीशन का आयोजन किया जाएगा, जिसकी जानकारी शीघ्र ही फेसबुक पेज पर अपलोड कर दी जाएगी|

Check Also

Valentine’s Special: एक दूसरे से प्यार जताना भी है जरूरी

Valentine’s Special: एक दूसरे से प्यार जताना भी है जरूरी

Share this on WhatsAppValentine’s Special: पतिपत्नी के नाजुक रिश्ते की डोर प्यार से बंधी होती …

Gurukpo plus app
Gurukpo plus app