Home / Health / कैसे बचें मौसमी बीमारियों से? जानें डॉ. विपिन जैन से

कैसे बचें मौसमी बीमारियों से? जानें डॉ. विपिन जैन से

मौसम बदलने के साथ ही लोगों में सर्दी-जुकाम, सिरदर्द और बुखार जैसे लक्षण दिखाई देने लगते हैंं। सर्दी-जुकाम की समस्या सुनने में आम लगती है, लेकिन वास्तव में अगर इसे गंभीरता से ना लिया जाए तो यह एक भयंकर समस्या बन सकती है। इसलिए इसके बारे में जानकारी होना बहुत जरूरी है।

1. सामान्य शब्दों में कोल्ड (जुकाम) का क्या अर्थ है?
कोल्ड (जुकाम) एक प्रकार की एलर्जी है, जिसमें नाक से पसनी या बलगम निकलता है। जुकाम में हमारे श्वसन तंत्र में पस सेल्स और पानी का मिश्रण बन जाता है और इसी का नाक और गले के माध्यम से सीक्रेशन होने लगता है। जुकाम अपने आप में कोई बीमारी नहीें है, बल्कि यह इस बात का लक्षण है कि श्वसन तंत्र में एलर्जी या इंफ ेक्शन हो चुका है और अगर इसे ठीक करने के उपाय नहीं किए गए तो निमोनिया जैसी दूसरी बीमारियां हो सकती हैं।
2. सर्दी-जुकाम के मुख्य कारण क्या हैं?
कभी-कभी अचानक से मौसम बदलने, ठंडा-गर्म खाने व ठंड से गर्म या गर्म से ठंडे माहौल में जाने से जुकाम हो सकता है। प्रदूषण की वजह से भी जुकाम हो सकता है। जिन लोगों की रोग प्रतिरोधक क्षमता कम होती है, वे जुकाम की चपेट में जल्दी आते हैं।
3. जुकाम और फ्लू में क्या अंतर है?
जुकाम और फ्लू दो अलग-अलग बीमारियां हैं। अक्सर जुकाम को फ्लू समझने की भूल की जाती है। फ्लू इनफ्लूएन्जा के वायरस से होता है जबकि जुकाम अन्य कारणों से। दोनों बीमारियां एक दूसरे से मिलती जरूर हैं। फ्लू के दौरान तेज बुखार, सिरदर्द, खांसी और बेहद कमजोरी महसूस होती है।
4. सर्दी-जुकाम से बचाव किस प्रकार किया जा सकता है?
जुकाम की समस्या अक्सर संक्रमित व्यक्ति के सम्पर्क में आने से होती है। इसलिए सबसे ज्यादा जरूरी है खुद को संक्रमित व्यक्ति से दूर रखें। दूसरी जरूरी बात जुकाम की समस्या से बचने के लिए अपने आहार का खास खयाल रखा जाए। हरी सब्जियां और फ ल खाने से शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली मजबूत होती है और बहुत हद तक जुकाम से बचा जा सकता है।
5. सर्दी के मौसम में खान-पान कैसा होना चाहिए, ताकि इन मौसमी बीमारियों से बचा जा सके?
इसके लिए हल्का और सुपाच्य भोजन करें, साथ ही ध्यान रखें कि वह ताजा व गरम हो। अपने भोजन में तरल पदार्थों की मात्रा बढाएं। गर्म सूप पीएं। सर्दी के मौसम में आइसक्रीम, कोल्डड्रिंक और फ्रि ज के पानी से बचें और बहुत ज्यादा घी तेल से बनी चीजें ना खाएं।
6. बियानी टाइम्स के पाठकों को आप क्या सलाह देना चाहेंगे?
सर्दी-जुकाम वैसे तो सामान्य बीमारियां लगती हैं लेकिन अगर दो या तीन दिन में यह ठीक नहीं होती तो इसे हल्के में ना लें। यह किसी गंभीर समस्या का लक्षण हो सकता है। बार-बार जुकाम का होना इस बात को दर्शाता है कि आपके शरीर का इम्यून सिस्टम सही ढंग से काम नहीं कर रहा है। ऐसे में जरूरी है कि आप अपने शरीर की रोग प्रतिरोधी क्षमता को मजबूत बनाने की दिशा में काम करें। इन छोटी-छोटी परन्तु महत्वपूर्ण बातों के माध्यम से समाज में जागरूकता फ ैलाने का काम जिस तरह से बियानी टाइम्स के द्वारा किया जा रहा है, यह बहुत सराहनीय है। मेरी तरफ से हार्दिक शुभकामनाएं।

डॉ. विपिन जैन

(सीनियर जनरल
फिजिशियन,
सोनी मणिपाल हॉस्पिटल)

 

Check Also

मुस्कुराइये, इससे आप रहेंगे तनाव मुक्त और हार्ट भी रहेगा हेल्दी

Share this on WhatsAppमुस्कान एक ऐसी दवा है जो मुफ्त है और यह आपके स्वास्थ्य …

Apply Online
Admissions open biyani girls college