KBC 13 को मिला सीजन का पहला करोड़पति

KBC 13 को मिला सीजन का पहला करोड़पति

तानिया शर्मा

बिग बी यानी अमिताभ बच्चन का सबसे पॉपुलर टीवी शो ‘कौन बनेगा करोड़पति 13’ का आगाज  23 अगस्त से हो चुका है। हर कंटेस्टेंट शो से अच्छे पैसे जीतकर जा रहे हैं। हालांकि कुछ कंटेस्टेंट शो में आगे तक नहीं जा सकें। आखिरकार दर्शकों को जिसका इंतजार था वो वो पल आ ही गया। देश को इस शो का पहला करोड़पति मिल गया। केबीसी में हिमानी बुंदेला इस साल की पहली करोड़पति बन चुकी हैं। हालांकि हिमानी का 7 करोड़ जीतने का सपना अधूरा रह गया।

वीडियो में दिखाया गया है विजेता का उत्साह

इस प्रोमो को सोनी टीवी ने अपने इंस्टाग्राम हैंडल पर पोस्ट किया है। जिसमें दिखाया गया है कि हिमानी बुंदेला 1 करोड़ रुपये जीतने के बाद 7 करोड़ रुपये के सवाल के लिए खेलती हैं। वह अमिताभ बच्चन से कहती हैं, “जय माता दी, लॉक कर दीजिए सर, अगर नीचे गिरे तो कोई बात नहीं, भगवान की मर्जी है।” हालांकि ये नहीं दिखाया गया कि हिमानी बुंदेला ने 7 करोड़ रुपये जीतीं हैं या नहीं।

साल 2000 में हुई थी शो की शुरुआत

कौन बनेगा करोड़पति के 13वें सीजन की सोमवार रात 9 बजे शुरुआत हो चुकी है। COVID-19 महामारी के बीच शो इस साल भी सभी के घरों तक पहुंचने लगा है और यह कई बदलावों के साथ लोगों को शिक्षित करेगा। रियलिटी क्विज शो ने हाल ही में अपनी यात्रा के 21 साल पूरे किए हैं। इसकी शुरुआत सबसे पहले साल 2000 में स्टार प्लस पर हुई थी।

एक करोड़ का यह था प्रश्नःद्वितीय विश्व युद्ध के दौरान फ्रांस में ब्रिटेन के जासूस के रूप में काम करते वक्त नूर इनायत खान ने इनमें से किस छद्मनाम का उपयोग किया था?

वेरा एटकिंस- क्रिस्टीना स्कारबेक- जुलीएन आईस्नर- जीन-मैरी रेनियरइस प्रश्न का सही जवाब था जीन-मैरी रेनियर। हिमानी ने इसपर लॉक किया था। वह एक करोड़ रुपये जीत चुकी हैं। सवाल का सही जवाब देकर हिमानी ने कहा कि उन्होंने यह स्कूल में पढ़ा था तो उन्हें यह याद रहा। अमिताभ बच्चन ने भी हिमानी के ज्ञान की तारीफ करते हुए कई बातें कहीं। मालूम हो कि केबीसी के आने वाले ‘शानदार शुक्रवार’ एपिसोड में क्रिकेट की दुनिया से पूर्व कप्तान सौरव गांगुली और पूर्व टेस्ट क्रिकेटर वीरेंद्र सहवाग हॉट सीट पर दिखाई देंगे।

7 करोड़ के सवाल पर हिमानी ने किया क्वीट

बता दें कि हिमानी 7 करोड़ के सवाल का जवाब नहीं पता था. उनके पास ना ही कोई लाइफलाइन बची थी. इसलिए उन्होंने गेम क्वीट कर दिया. 7 करोड़ रुपये के लिए हिमानी बुंदेला से पूछा गया ये सवाल –

डॉ. बी आर अंबेडकर द्वारा लंदन स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स में प्रस्तुत किये गये थीसिस का शीर्षक क्या था, जिसके लिए उन्हें 1923 में डॉक्टर की उपाधि दी गयी थी?

इसके ऑप्शन थे –  द वांट्स एंड मीन्स ऑफ इंडिया, द प्रॉब्लम ऑफ द रूपी, नेशनल डिविडेंड ऑफ इंडिया, द लॉ एंड लॉयर्स।

इसका सही जवाब था – ‘द प्रॉब्लम ऑफ द रूपी।


Posted

in

,

by