Home / Education / फाइनल परीक्षा कराने की तैयारी में राजस्थान यूनिवर्सिटी 2 घंटे की परीक्षा 60% पेपर करने की होगी छूट

फाइनल परीक्षा कराने की तैयारी में राजस्थान यूनिवर्सिटी 2 घंटे की परीक्षा 60% पेपर करने की होगी छूट

राजस्थान यूनिवर्सिटी के स्टूडेंट के लिए राहत भरी खबर है। कोरोना के कारण जहां छात्रों को अब 2 घंटे का ही पेपर देना होगा,वहीं सिर्फ 60 फ़ीसदी प्रश्न पत्र ही हल करना होगा। इधर शिक्षा विभाग की गाइडलाइन के बाद राजस्थान यूनिवर्सिटी ने परीक्षाएं कराने की तैयारियां शुरू कर दी है। यूनिवर्सिटी ने सेमेस्टर परीक्षाओं के लिए दिशा निर्देश जारी कर दिए हैं।

राजस्थान यूनिवर्सिटी :पूर्णाक में से सिर्फ 60% अंकों के प्रश्न ही हल करने होंगे

निर्देशों के अनुसार यूनिवर्सिटी की परीक्षाओं में पेपर के कुल पूर्णाक में से सिर्फ 60% अंकों के प्रश्न ही हल करने होंगे। परीक्षक की ओर से मूल्यांकित किए गए 60 फ़ीसदी प्रश्नों के अंकों को 100 फ़ीसदी में परिवर्तित करते हुए यूनिवर्सिटी प्रशासन रिजल्ट जारी करेगा। जैसे अधिकतम सीमा 100 तो संशोधित सीमा, अधिकतम 80 तो संशोधित 48 और अधिकतम 50 अंक होने पर संशोधित अंक सीमा 30 अंक हो गई.

 पेपर 2 घंटे में ही करना होगा

इसके अलावा कोरोना से पहले पेपर के लिए जहां 3 घंटे का समय मिलता था इस बार भी पेपर 2 घंटे में ही करना होगा। हालांकि पेपर में यूनिट के हिसाब से प्रश्न हल करने की बाध्यता नहीं होगी। शिक्षा विभाग ने प्रदेश की सभी यूनिवर्सिटी को सुझाव भेजे थे इनके अनुसार प्रायोगिक परीक्षाएं, non-collegiate एवं डिप्लोमा की परीक्षाएं 15 अप्रैल से रेगुलर स्टूडेंट की परीक्षाएं 15 मई से शुरू की जा सकती हैं।

फाइनल ईयर की का रिजल्ट 31 जुलाई तक जारी करने के निर्देश हैं। राजस्थान यूनिवर्सिटी में पीजी थर्ड सेमेस्टर की परीक्षाएं शुरू हो गई हैं। वहीं अन्य परीक्षाओं के लिए परीक्षा केंद्र बनाए जा रहे हैं। कोरोनावायरस की पालना के लिए अधिक सेंटर बनाए जाएंगे। यूनिवर्सिटी ने पिछले साल वाले सेंटरों को आवेदन करने का निर्देश जारी किया है।

Check Also

CLAT 2021: अब 9 मई नहीं 13 जून को होगी परीक्षाCLAT 2021: अब 9 मई नहीं 13 जून को होगी परीक्षा

CLAT 2021: अब 9 मई नहीं 13 जून को होगी परीक्षा

Share this on WhatsAppCLAT 2021: विधि प्रवेश परीक्षा कॉमन लॉ एडमिशन टेस्ट (क्लैट) की तारीख …

Gurukpo plus app
Gurukpo plus app