Home / News / India / बेसहारा महिला की कहानी सुन ट्रैफिक इंचार्ज हो गए भावुक

बेसहारा महिला की कहानी सुन ट्रैफिक इंचार्ज हो गए भावुक

पूर्वा चतुर्वेदी

राजीव शर्मा/बहराइच:

उत्तर प्रदेश के बहराइच जिले में पुलिस ने एक मानवता की मिसाल पेश की है. यह तस्वीर सोशल मीडिया पर बड़ी तेजी से वायरल हो रही है. मामला जिले के यातायात प्रभारी अनिल तिवारी से जुड़ा है, जो एक बेसहारा महिला के लिये मसीहा के तौर पर नज़र आए.

महिला की कहानी सुन यातायात प्रभारी हुए भावुक:

वाकिया उस वक़्त का है, जब ट्रैफिक इंचार्ज अनिल तिवारी अपनी टीम के साथ शहर के पीपल तिराहे पर ड्यूटी कर रहे थे. इसी दौरान फटे-नुचे कपड़ों में एक बेसहारा महिला के ऊपर उनकी नज़र पड़ी, जो अपनी गोद में नंग बदन हालात में अपने दूधमुंहे बच्चे को लेकर बैठी सिसक रही थी. उसे देखकर ट्रैफिक इंचार्ज महिला के पास गए और उससे दर्द की कहानी पूछी. पता चला कि शहर के नाजिरपुरा इलाके में रहने वाले उसके पति ने उसको मार-पीट कर बच्चों के साथ घर से भगा दिया है. उसके पास खाने के लिये न तो पैसे हैं और न ही पहनने को कपड़े. फटे कपड़ों में वो इधर-उधर घूम कर किसी तरह बच्चों को पाल रही है.

ट्रैफिक इंचार्ज अनिल तिवारी अपनी टीम के साथ शहर के पीपल तिराहे पर ड्यूटी कर रहे थे. इसी दौरान फटे-नुचे कपड़ों में एक बेसहारा महिला के ऊपर उनकी नज़र पड़ी, जो अपनी गोद में नंग बदन हालात में अपने दूधमुंहे बच्चे को लेकर बैठी सिसक रही थी…
प्रभारी ने कहा- गाड़ी पहचान लो हमारी
कुछ इस तरह बहराइच में यूपी पुलिस के ट्रैफिक इंचार्ज ने बेसहारा महिला के लिये मदद का फर्ज निभाकर मानवता का धर्म निभाया.इसी के साथ, यातायात प्रभारी ने पीड़िता को भरोसा दिलाया कि जब भी उसे किसी प्रकार की दिक्क्त हो तो उनकी गाड़ी को पहचान लें. गाड़ी देखते ही सीधे उनके पास चली आए. लेकिन शर्त यह है कि हमेशा साफ-सफाई से रहना होगा.

नए कपड़े और खाने का सामान दिया उपहार:

फिर क्या था… उसकी कहानी सुनकर यातायात प्रभारी का दिल इस पसीज गया. उन्होंने मौके पर पीड़िता और उसके बच्चों की मदद करने के लिए नए कपड़ो का सेट खरीद कर दिया. साथ ही खाने-पीने के सामान के साथ ही कुछ रुपये देकर उसके बहते आंसुओं को पोछा.

Check Also

चौबीस घंटे खुलने लगा एयरपोर्ट

चौबीस घंटे खुलने लगा एयरपोर्ट

Share this on WhatsAppतानिया शर्मा इंदौर का देवी अहिल्याबाई होलकर इंटरनेशनल एयरपोर्ट 30 अक्टूबर से …

Gurukpo plus app
Gurukpo plus app