Home / News / India / मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने अपने हाथो से बनाया खाना

मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने अपने हाथो से बनाया खाना

तानिया शर्मा

मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने पंजाब के पदक विजेता ओलंपिक खिलाड़ियों के लिए शेफ की ड्रेस पहन ही ली। कैप्टन के सिसवां स्थित आवास पर बुधवार शाम का माहौल बहुत ही खुशनुमा और मौका वाकई यादगार था। मुख्यमंत्री ने टोक्यो ओलंपिक के पदक विजेता खिलाड़ियों, राज्य के प्रतिभागी खिलाड़ियों और स्वर्ण पदक विजेता नीरज चोपड़ा के लिए न सिर्फ खुद लजीज व्यंजन तैयार किए बल्कि उन्हें अपने हाथों से खाना परोसा। यह मौका बहुप्रतीक्षित रात्रिभोज का था, जिसके लिए कैप्टन ने बीते दिनों ओलंपिक खिलाड़ियों को नगद पुरस्कार वितरित करते हुए वादा किया था कि वे खिलाड़ियों को अपने हाथ से खाना बनाकर खिलाएंगे।

फार्म हाउस का लॉन लजीज व्यंजनों की सुगंध और आनंद की भावना से सराबोर था

बुधवार की शाम फार्म हाउस का लॉन लजीज व्यंजनों की सुगंध और आनंद की भावना से सराबोर था, जिसे कैप्टन ने दिन भर कड़ी मेहनत करते हुए अपने मेहमानों के लिए तैयार किया था। इससे पहले मुख्यमंत्री एप्रैन पहने और हाथ में कड़छी संभाले बड़े-बड़े पतीलों में अपने पसंदीदा व्यंजन बनाते हुए, पाक-कला में माहिर तजुर्बेकार शेफ की तरह व्यंजनों से उठती भाप को ऐसे जांच रहे थे कि व्यंजन पकने में कोई कमी न रह जाए। इस काम में कैप्टन को उनके भाई मालविंदर सिंह ने भी सहयोग दिया। वह भी काफी समय तक कैप्टन से साथ मिलकर व्यंजन पकाते रहे। कैप्टन की ओर से ओलंपिक खिलाड़ियों के लिए तैयार किया गया मेनू भी किसी शाही दावत से कम नहीं था। उन्होंने अपने हाथों से,  मटन खारा पिशोरी, लौंग इलायची चिकन, आलू कोरमा, दाल मसरी, मुर्ग कोरमा, दुगानी बिरयानी और जर्दा चावल (मीठी डिश) तैयार किए।

महाराज का बनाया खाना उम्मीद से बढ़कर थाः मनप्रीत

भारतीय हॉकी के कप्तान मनप्रीत सिंह ने कहा कि उन्होंने महाराजा के खाना पकाने के बारे में सुना था, लेकिन बुधवार को उन्होंने जो परोसा वह उनकी उम्मीदों से बढ़कर था। अपने पहले ओलंपिक में छठे स्थान पर आने वाली मुक्तसर की डिसकस थ्रेाअर कमलप्रीत कौर ने कहा कि वह मुख्यमंत्री की दावत और इस्तकबाल दोनों से मुतासिर थीं।

Check Also

14 साल बाद सबसे गर्म नवंबर

14 साल बाद सबसे गर्म नवंबर

Share this on WhatsAppतानिया शर्मा ठंड की दस्तक के बाद भी देश के कई हिस्सों …

Gurukpo plus app
Gurukpo plus app