Breaking News
Home / News / जरूरतमंदों का दर्द बांट रही युवाओं की टोली

जरूरतमंदों का दर्द बांट रही युवाओं की टोली

 

अनुष्का शर्मा

गरीब लोगो का सहारा बने

कोरोना संक्रमण के कारण लागू लाकडाउन ने सिर्फ लोगों का रोजगार छीना बल्कि, रोटी के भी लाले पड़ गए। भूख मिटाने के लिए भटक रहे गरीबों के दर्द ने मुजेहना के युवाओं को झकझोर कर रख दिया। दोस्तों के साथ मिलकर लोगों का दर्द बांटने का बीड़ा उठाया और घर-घर राशन पहुंचाया। गरीब के बेटियों का कन्यादान कराने के साथ ही बेघर लोगों की मदद की। वाट्सएप ग्रुप बनाकर लोगों को जोड़ने के साथ ही लोगों की मदद का जब सिलसिला शुरू हुआ तो हर कोई इस नेक पहल की सराहना करने लगा। ये युवा एक कॉल पर मदद करने क लिए पहुंच जाते हैं।

समूह से जुड़ गए 256 सदस्य

– जावेद अंसारी ने बताया कि इस मुहिम में सतीश तिवारी, इसरार अहमद, मंशाराम वर्मा, शाहिद अली, मो. नईम सक्रिय भूमिका निभा रहे हैं। देश व प्रदेश में नौकरी करने वाले क्षेत्र के लिए हर माह अपनी इच्छानुसार सहयोग करते हैं। उन्होंने बताया कि जरूरतमंदों को राशन, गरीब की बेटियों की शादी में सहयोग, बीमार लोगों को इलाज की सुविधा, गरीबों के अंतिम संस्कार में सहयोग, बच्चों को कॉपी-किताब देने की पहल की जा रही है। कस्बे के ही मणिकांत कौशल को साइकिल दी गई है।

 

बेघर महिला को मिला आसरा

– माधवगंज में रहने वाली एक महिला के घर में कमाने वाला कोई नहीं है। पति का निधन हो गया है और बच्चे छोटे-छोटे हैं। बरसात में कच्चा मकान गिर गया। इससे वह खुले आसमान के नीचे रहने के लिए मजबूर हो गई। इसकी जानकारी समूह के सदस्यों को हुई। इसके बाद सभी सदस्यों ने थोड़े-थोड़े पैसे जुटाकर एक कमरे का घर बनवाया। कार्य सराहनीय

मुजेहना सहायता समूह के सदस्यों का प्रयास सराहनीय है। कोरोना संक्रमण के दौरान से युवा लगातार जरूरतमंदों की मदद कर रहे हैं। सभी को इस नेक पहल में सहयोग करना चाहिए।

 

 

Check Also

“रक्त विकार” पर जागरूकता वार्ता का हुआ आयोजन

Share this on WhatsAppजयपुर विद्याधर नगर स्थित बियानी नर्सिंग कॉलेज एवं महावीर कैंसर हॉस्पिटल के …

Gurukpo plus app
Gurukpo plus app