Home / News / India / भारतीय सेना के अधिकारी ने बनाया रिकॉर्ड

भारतीय सेना के अधिकारी ने बनाया रिकॉर्ड

तानिया शर्मा

भारतीय सेना के अधिकारी ने 34 घंटे 54 मिनट में लेह से मनाली तक 472 किमी की दूरी तय करके ‘सबसे तेज सोलो साइकिलिंग- (पुरुष)’ का एक नया गिनीज विश्व रिकॉर्ड बनाया है। एक रक्षा प्रवक्ता ने ये जानकारी दी।

उन्होंने कहा कि सामरिक स्ट्राइकर्स डिवीजन के लेफ्टिनेंट कर्नल श्रीपदा श्रीराम ने शनिवार सुबह चार बजे लद्दाख के लेह से साइकिल चलाना शुरू किया। इस दौरान कुल दूरी लगभग 8,000 की कुल ऊंचाई के साथ 472 किलोमीटर थी।

रोहतांग समेत पांच दर्रे पार किए

लेफ्टिनेंट कर्नल श्रीपद श्रीराम लेह से 25 सितंबर को सुबह चार बजे चले थे और आज दोपहर लगभग सवा तीन बजे मनाली पहुंच गए. लेह से मनाली पहुंचने के दौरान उन्होंने अपनी साइकिल से रोहतांग समेत पांच दर्रे पार किए.

इससे पहले अक्टूबर 2020 में लेफ्टिनेंट कर्नल भरत पन्नू ने इस मार्ग पर साइकिल से नान स्टॉप सफर तय कर रिकॉर्ड बनाया था. भरत पन्नू ने यह दूरी 35 घंटे 32 मिनट में तय की थी.

उन्होंने अक्टूबर 2020 में लेफ्टिनेंट कर्नल भरत पन्नू (Lt Col Bharat Pannu) का रिकॉर्ड तोड़कर अपना नाम गिनीज वर्ल्ड रिकार्ड्स (Guinness World Records) में अपना नाम दर्ज करा करा लिया है.

सड़क खराब होने से लगा ज्यादा समय

जी मीडिया से खास बातचीत में लेफ्टिनेंट श्रीपद श्रीराम ने अपने अनुभव साझा किए. उन्होंने बताया कि दर्रों में रात के समय सफर करना चुनौतीभरा था. उन्होंने बताया कि बारालाचा दर्रे में तापमान माइनस पर था, लेकिन उन्होंने हिम्मत से काम करते हुए सफलता पाई.

उन्होंने कहा कि लेह-मनाली मार्ग अधिकतर जगह चकाचक हो गया है, लेकिन सरचू ,भरतपुर सिटी, व रोहतांग मढ़ी के बीच सड़क खराब होने के कारण उन्हें ज्यादा समय लग गया.

प्रवक्ता ने कहा

”लेफ्टिनेंट कर्नल श्रीराम ने 26 सितंबर को लेह से मनाली हिमाचल प्रदेश में तक ‘सबसे तेज़ सोलो साइकिलिंग – (पुरुष)’ के लिए एक नया गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाया है। कुल दूरी लगभग 8,000 मीटर की कुल ऊंचाई के साथ 472 किलोमीटर थी।

उन्होंने कहा कि अधिकारी ने कठिन मौसम की स्थिति में पांच प्रमुख दर्रे को पार करते हुए 34 घंटे 54 मिनट में सफलतापूर्वक मार्ग पूरा किया।

Check Also

14 साल बाद सबसे गर्म नवंबर

14 साल बाद सबसे गर्म नवंबर

Share this on WhatsAppतानिया शर्मा ठंड की दस्तक के बाद भी देश के कई हिस्सों …

Gurukpo plus app
Gurukpo plus app