शहीद भगत सिंह की 115वीं जयंती पर बदला चंडीगढ़ हवाई अड्डे का नाम

शहीद भगत सिंह की 115वीं जयंती पर बदला चंडीगढ़ हवाई अड्डे का नाम

तानिया शर्मा

वित्तमंत्री निर्मला सीतारामन ने आज शहीद ए आजम भगत सिंह की 115वीं जयंती पर चंडीगढ़ अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे का नाम बदल कर शहीद भगत सिंह अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा किया।
पिछले रविवार को मन की बात कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चंडीगढ़ अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे का नाम शहीद भगत सिंह के नाम पर रखने की घोषणा कर उन्हें श्रद्धांजलि दी थी।

श्रीमती निर्मला सीतारामन ने इस फैसले के लिए प्रधानमंत्री को धन्‍यवाद दिया

समारोह को संबोधित करते हुए श्रीमती निर्मला सीतारामन ने इस फैसले के लिए प्रधानमंत्री को धन्‍यवाद दिया और कहा कि चण्‍डीगढ हवाई अड्डे का नाम बदलने पर मैं गौरवान्वित महसूस कर रही हूं। वित्‍तमंत्री ने कहा कि शहीद भगत सिंह के सर्वोच्‍च बलिदान को भुलाया नहीं जा सकता। उन्‍होंने कहा कि अमृतकाल में स्‍वतंत्रता सैनानियों को याद किया जा रहा है और इससे आने वाली पीढी को देश के वास्‍तविक नायकों के बारे में बताने का मौका मिला है।
हवाई अड्डे पर आयोजित समारोह में पंजाब के राज्यपाल बनवारी लाल पुरोहित, हरियाणा के राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय, केंद्रीय मंत्री डॉ विजय कुमार सिंह, पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान, हरियाणा के उप-मुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला, हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज और चंडीगढ़ से सांसद किरण खेर शामिल हुए।

राज्यमंत्री विजय कुमार सिंह ने भगत सिंह के सर्वोच्च बलिदान को याद किया

इस मौके पर केंद्रीय नागरिक उड्डयन राज्यमंत्री विजय कुमार सिंह ने भगत सिंह के सर्वोच्च बलिदान को याद किया। हरियाणा के उप मुख्‍यमंत्री दुष्‍यंत चौटाला ने समारोह को सम्‍बोधित किया। राज्‍य के गृहमंत्री अनिल विज ने शहीद भगत सिंह के नाम पर हवाई अड्डे का नाम रखने पर प्रसन्नता व्यक्त की। पंजाब के मुख्‍यमंत्री भगवंत मान ने हवाई अड्डे का नाम बदलने पर प्रधानमंत्री को धन्‍यवाद दिया। उन्‍होंने इस हवाई अड्डे से वैंकुवर और टोरंटो के लिए सीधी अन्‍तर्राष्‍ट्रीय उड़ान शुरू करने की अनुमति मांगी, क्‍योंकि इन शहरों में बड़ी संख्‍या में पंजाबी रहते हैं।