Home / More / बॉर्डर-गावस्कहर ट्रॉफी टीम इंडिया को, छक्केज छुड़ाने में सबसे आगे रहे यह 6 खिलाड़ी: IND vs AUS

बॉर्डर-गावस्कहर ट्रॉफी टीम इंडिया को, छक्केज छुड़ाने में सबसे आगे रहे यह 6 खिलाड़ी: IND vs AUS

टीम इंडिया ने विराट कोहली की गैरमौजूदगी के बावजूद धर्मशाला मैच 8 विकेट से जीतकर चार टेस्‍ट की सीरीज 2-1 से अपने नाम कर ली है. इस जीत के साथ ही टीम इंडिया ने बॉर्डर-गावस्‍कर ट्रॉफी पर कब्‍जा कर लिया है. टीम इंडिया की यह लगातार सातवीं सीरीज जीत है. पुणे का पहला टेस्‍ट बुरी तरह हारने के बाद टीम इंडिया के समर्थकों के चेहरे बुझे हुए थे लेकिन बेंगलुरू की जीत ने मुस्‍कान लौटाई. रांची और धर्मशाला में हुए तीसरे और चौथे टेस्‍ट में टीम इंडिया के खिलाड़ि‍यों ने जमकर संघर्ष करने का जज्‍बा दिखाया.विपरीत परिस्थितियों में संघर्ष करके उन्‍होंने कंगारू टीम को बैकफुट पर ला दिया और सीरीज अपने नाम की. वैसे तो हर खिलाड़ी का टीम की इस जीत में योगदान रहा लेकिन अपने प्रदर्शन से ऑस्‍ट्रेलियाई खिलाड़ि‍यों के छक्‍के छुड़ाने वाले ये 6 ‘हीरो’ खास रहे…

उमेश यादव : अब केवल तेज नहीं, सटीक भी हैं
तेज गेंदबाज उमेश यादव को कुछ समय पहले तक ऐसा गेंदबाज माना जा सकता था जो गति और स्विंग के बावजूद अपनी प्रतिभा से न्‍याय नहीं कर पाया, लेकिन न्‍यूजीलैंड, इंग्‍लैंड,  बांग्‍लादेश और अब ऑस्‍ट्रेलिया के खिलाफ वे टीम इंडिया के लिए नंबर वन तेज गेंदबाज साबित साबित हुए. ऑस्‍ट्रेलिया के खिलाफ सीरीज में उमेश की शानदार गेंदबाजी का अंदाज उनके विकेट की संख्‍या से नहीं लगाया जा सकता. टीम के कप्‍तान को जब भी विकेट की जरूरत हुई, उमेश ने उन्‍हें यह करके दिया. पूरी सीरीज में अपनी गेंदों की गति, स्विंग से वे विपक्षी बल्‍लेबाजों के लिए परेशानी बने रहे. रिवर्स स्विंग कराने में विदर्भ के इस गेंदबाज को महारत हासिल है. उमेश की फिटनेस कमाल की है. सीरीज के चार मैचों में उन्‍होंने 398 रन देकर 17 विकेट (औसत 23.41 )हासिल किए. भारत के स्पिन गेंदबाजों के मददगार विकेटों पर इस प्रदर्शन को कम करके नहीं आंका जाना चाहिए. किसी भी सीरीज में यह उमेश का अब तक का सर्वश्रेष्‍ठ प्रदर्शन है.

लोकेश राहुल: वॉर्नर की बात को सही साबित किया
ऑस्‍ट्रेलियाई टीम के ओपनर डेविड वॉर्नर से हाल ही में विराट कोहली को छोड़कर टीम इंडिया के सर्वश्रेष्‍ठ बल्‍लेबाज के बारे में पूछा गया था तो उनका जवाब था-केएल (लोकेश) राहुल. राहुल ने ऑस्‍ट्रेलिया के खिलाफ सीरीज में अपने प्रदर्शन से वॉर्नर को सही साबित कर दिया. राहुल के खेल में अभी खटकने वाली बात है तो सिर्फ यही कि सेट होने के बाद वे जोखिम भरे शॉट लगाकर गैरजरूरी तरीके से विकेट गंवा देते हैं. राहुल के इस रवैये के कारण टीम इंडिया कुछ मौकों पर परेशानी में भी पड़ती दिखी. वैसे राहुल को शॉट्स लगाते हुए देखना बेहतरीन अनुभव होता है. वे गेंद को बेहतरीन तरीके से टाइम करते हैं. सीरीज के चार मैचों में उन्‍होंने 65.50 के औसत से 393 रन बनाए, जिसमें छह अर्धशतक शामिल रहे. खास बात यह कि राहुल के बल्‍ले से ये रन तब आए जब टीम को इसकी सबसे ज्‍यादा जरूरत थी. बेंगलुरू टेस्‍ट में तो वे मैन ऑफ द मैच रहे.

Check Also

दिव्यांशा बनी सबसे कम उम्र ताईक्वांडों ब्लैक बेल्ट

Share this on WhatsAppजयपुर की रहने वाले दिव्यंशा तीन साल की थी जब उन्होंने अभ्यास …

Apply Online
Admissions open biyani girls college