Sunday , November 19 2017
Home / Editorial / भ्रष्टाचार और अनैतिकता से मुक्त भारत कैसे बने ?

भ्रष्टाचार और अनैतिकता से मुक्त भारत कैसे बने ?


इन दिनों गोरखपुर के बाबा राघव दास मेडिकल कॉलेज अस्पताल में ऑक्सीजन की कमी से 64 लोगों की मृत्यु का मामला छाया हुआ है। यह बात चर्चा में रही कि पुष्पा सेल्स नामक कंपनी ऑक्सीजन सप्लाई करती है। यह भी ज्ञात हुआ कि 63 लाख रु. का भुगतान न होने की वजह से ऑक्सीजन सप्लाई रोकी गई। हमेशा की तरह इतनी बड़ी त्रासदी हो जाने के बाद भी कोई व्यक्ति इसकी जिम्मेदारी लेने को तैयार नहीं है। यह भी एक प्रमुख अखबार में छपा कि नाम ना छापने की शर्त पर वहां काम करने वाले लोगों ने बताया कि मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल डॉ. राजीव ने कमीशन के चक्कर में पुष्पा सेल्स कंपनी का पेमेंट रोक रखा था।

वास्तव में यह कहानी हर बड़े संस्थान की बन गई है। अभी अप्रेल 2017 में चूरू जिले के आयुर्वेद कॉलेज में सही निरीक्षण रिपोर्ट दिये जाने हेतु १२ लाख रूपये की रिश्वत मांगे जाने का मामला सामने आया था। इस तरह हम देख सकते हैं कि भ्रष्टाचार किस कदर स्वास्थ्य संबंधी सेवाओं में भी पांव पसारते जा रहा है। आज भी ऐलोपैथी, होम्योपैथी, आयुर्वेदिक हेतु बने नियामक संस्थान बड़े अवांछित नियम लागू कर भ्रष्टाचार को बढ़ावा मिलता है।

आईये, जरा विचार करें कि आजादी के 70 वर्ष व्यतीत हो जाने के बाद भी यह स्थिति क्यों बनी हुई है। वास्तव में गत 70 वर्षों से ब्रिटिश समझ हमारे पर हावी हो चुकी है। हम सभी लोग अपनी खुशियां पदार्थों में ढूंढने लगे हैं। वास्तविक खुशी का संबंध आत्मिक शान्ति व आंतरिक प्रसन्नता से है। भारतीय ज्ञान, संस्कृति व परम्परायें हमेशा स्वयं को आत्म स्वरुप महसूस करने पर बल देती रही हैं। अगर वास्तव में हमें भ्रष्टाचार व अनैतिकता मुक्त भारत के सपने को साकार करना हो तो हमें स्वयं को आत्मा के रूप में समझना होगा। इस कार्य के लिए हमें अपने विद्यालय व महाविद्यालय स्तर पर योग व नैतिक शिक्षा को मजबूत बनाना होगा।

आइये, इस 70वें स्वाधीनता दिवस पर स्वयं की खोज करें और स्वयं से पूछे कि मैं कौन हूँ। निश्चित रूप से जीवन का सबसे बड़ा प्रश्न है जिसकी हमें जानकारी तो है परन्तु यह जानकारी समझ में तभी परिवर्तित होगी जब इस प्रश्न का उत्तर हम स्वयं खोजेंगे। मैं आप सभी को स्वतंत्रता दिवस के शुभ अवसर पर अपनी शुभकामनाएं प्रेषित करता हूं।
प्रेम, स्नेह और सम्मान के साथ ….

Check Also

गुजरात व तमिलनाडु से निकले नायक अब क्यों बन गये हैं जन-जन के नायक ?

गत दिनों में दो चेहरे बहुत ही चर्चित रहे हैं। प्रथम पीएम नरेन्द्र मोदी और …