Monday , December 11 2017
Home / Editorial

Editorial

किशोर मन की सबसे बड़ी आवश्यकता-पे्रम

इस माह गुडग़ांव के रेयान पब्लिक स्कूल के ग्यारहवीं कक्षा के छात्र द्वारा परीक्षा टालने के लिए दूसरी कक्षा के छात्र की हत्या करना व जयपुर के निजी स्कूल के पूर्व छात्रों द्वारा अपनी ही स्कूल पर बम फेंकने की घटना सामने आई। किशोरावस्था में इस तरह के अपराधिक और …

Read More »

‘समय पर भारत अभियान’ की जरूरत

अभी २ अक्टूबर, २०१७ को स्वच्छ भारत दिवस मनाया गया। स्वच्छता के प्रति पहली बार देश में इतनी जागरूकता देखी जा रही है। मुझे लगता है कि स्वच्छता के बाद एक और महत्वपूर्ण अभियान पर काम करने की बहुत बड़ी आवश्यकता है। स्वच्छ भारत अभियान के बाद अब जरूरत है …

Read More »

आखिर आदमी अशांत क्यों?

जयपुर शहर के रामगंज में अशांति का वातावरण क्यों? ८ सितम्बर २०१७ को रामगंज बाजार में सड़क पर ठेले हटाने के दौरान बाइक सवार दम्पति को डण्डा लग गया, इसके बाद विवाद थाने तक पहुँच गया। अभी समझाइश चल ही रही थी कि थाने के बाहर भीड़ जमा हो गई …

Read More »

प्रभावी निर्णय लेना प्रशासन का सबसे महत्त्वपूर्ण कार्य है

हाल ही में मोदी सरकार का बड़ा फैसला हम सभी लोगों के सामने आया है। वास्तव में यह फैसला सूझबूझ, परिपक्वता एवं गहरे चिंतन का ही परिणाम हो सकता है। पीएमओ ने निजी क्षेत्र के एग्जीक्यूटिव, सामाजिक कार्यकत्र्ता व शिक्षाविदें को आईएएस अफसरों की बराबरी के पदों पर तैनात करने …

Read More »

योग में आसन हमें शारीरिक रूप से मजबूत करता है तो प्राणायाम आंतरिक रूप से मजबूत बनाता है

21 जून को विश्वभर में योग दिवस मनाया जा रहा है। भारतीय संस्कृति सबसे प्राचीन संस्कृति में से एक है। यह वह संस्कृति है जिसने लम्बे समय तक स्वयं को बचाकर रखा है। विश्व की शायद ही कोई ऐसी संस्कृति है जिसका इतिहास भारतीय संस्कृति जितना पुराना और समृद्ध रहा …

Read More »

भ्रष्टाचार और अनैतिकता से मुक्त भारत कैसे बने ?

इन दिनों गोरखपुर के बाबा राघव दास मेडिकल कॉलेज अस्पताल में ऑक्सीजन की कमी से 64 लोगों की मृत्यु का मामला छाया हुआ है। यह बात चर्चा में रही कि पुष्पा सेल्स नामक कंपनी ऑक्सीजन सप्लाई करती है। यह भी ज्ञात हुआ कि 63 लाख रु. का भुगतान न होने …

Read More »

लोग जैसा सोचते हैं और अनुभव करते हैं समाज का निर्माण उसी अनुरूप हो जाता है।

बाहुबली व तीन तलाक का मुद्दा इस माह देश में काफी चर्चित रहा। साथ ही साथ पूनम छाबड़ा द्वारा शराब बंदी के मुद्दे पर किये गये प्रयास प्रदेश भर में काफी चर्चित रहे। आईये, इन मुद्दों पर जरा विचार करें। ये तीनों मुद्दे आज के समाज का आईना हैं और …

Read More »

योगी विचारधारा से प्रेरित राजनेताओं और आचार्यों की आवश्यकता…

ऐसा प्रतीत होता है कि देश में पहली बार एक नए युग का आरम्भ हुआ है। पहली बार विशाल भारत देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और सबसे बड़े प्रदेश उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री आदित्यनाथ योगी, योगी विचारधारा से प्रेरित है। लगभग दो सौ वर्ष के बाद ये लीक से हटकर स्वतंत्र …

Read More »

शिक्षा, विद्या व ज्ञान शब्द को ठीक से समझना होगा

हाल ही में बीबीए में अध्ययनरत जोधपुर के छात्र द्वारा हॉस्टल में आत्महत्या किए जाने का प्रकरण चर्चा का विषय रहा। परंतु इस तरह के प्रकरण हर माह घटते हुए देखे जा सकते हैं। यह तो तनाव का सबसे ऊंचा स्तर है। हम निश्चित रूप से कह सकते हैं कि …

Read More »

गुजरात व तमिलनाडु से निकले नायक अब क्यों बन गये हैं जन-जन के नायक ?

गत दिनों में दो चेहरे बहुत ही चर्चित रहे हैं। प्रथम पीएम नरेन्द्र मोदी और दूसरा तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जयललिता। इन दोनों नामों में व उनकी लोकप्रियता में कुछ समान बातें दृष्टिगोचर होती हैं। कुछ लोगों का मानना है कि जयललिता अपने फ्रैं ड फि लॉसॉफ र-गाइड एमजीआर के कारण …

Read More »