Home / Editorial

Editorial

गांधी के देश में हिंसा की कोई जगह नही: राष्ट्रपति कोविन्द

स्वाधीनता दिवस के 71वें वर्षगांठ की पूर्व संध्या पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी का स्मरण करते हुए कहा कि हिंसा की अपेक्षा, अहिंसा की शक्ति कहीं अधिक है. प्रहार करने की अपेक्षा, संयम बरतना, कहीं अधिक सराहनीय है और हमारे समाज में हिंसा के लिए कोई स्थान …

Read More »

राजनेता सीखें पॉलिटिकल मैनेजमेंट…

शायद ही भारत की राजनीति में ऐसा कोई होगा जो अटल जी की आलोचना कर सके । पक्ष-विपक्ष की भावना से ऊपर उठकर वो सभी को अपना मानकर प्रेम करते थे। वे सभी को भारत के विकास में सहयोगी बनाना चाहते थे। कार्यकर्ताओं से वो ऐसे खुलकर प्रेम से गले …

Read More »

समाज में आर्थिक खुशहाली के लिए एन्टरप्रेन्योर्स को बढ़ावा दिया जाना बहुत ही आवश्यक है

नरसिम्हा राव सरकार के कार्यकाल के दौरान वर्ष 1991 में एक समय आया था, जब भारतीय अर्थव्यवस्था बुरी तरह कर्ज में डूब कर दिवालियेपन की दिशा में पहुंच चुकी थी। सरकार के पास देश का सोना गिरवी रखकर ऋण लेेने के सिवाय, कोई भी रास्ता नहीं बचा था। इसका प्रमुख …

Read More »

किशोर मन की सबसे बड़ी आवश्यकता-पे्रम

इस माह गुडग़ांव के रेयान पब्लिक स्कूल के ग्यारहवीं कक्षा के छात्र द्वारा परीक्षा टालने के लिए दूसरी कक्षा के छात्र की हत्या करना व जयपुर के निजी स्कूल के पूर्व छात्रों द्वारा अपनी ही स्कूल पर बम फेंकने की घटना सामने आई। किशोरावस्था में इस तरह के अपराधिक और …

Read More »

‘समय पर भारत अभियान’ की जरूरत

अभी २ अक्टूबर, २०१७ को स्वच्छ भारत दिवस मनाया गया। स्वच्छता के प्रति पहली बार देश में इतनी जागरूकता देखी जा रही है। मुझे लगता है कि स्वच्छता के बाद एक और महत्वपूर्ण अभियान पर काम करने की बहुत बड़ी आवश्यकता है। स्वच्छ भारत अभियान के बाद अब जरूरत है …

Read More »

आखिर आदमी अशांत क्यों?

जयपुर शहर के रामगंज में अशांति का वातावरण क्यों? ८ सितम्बर २०१७ को रामगंज बाजार में सड़क पर ठेले हटाने के दौरान बाइक सवार दम्पति को डण्डा लग गया, इसके बाद विवाद थाने तक पहुँच गया। अभी समझाइश चल ही रही थी कि थाने के बाहर भीड़ जमा हो गई …

Read More »

प्रभावी निर्णय लेना प्रशासन का सबसे महत्त्वपूर्ण कार्य है

हाल ही में मोदी सरकार का बड़ा फैसला हम सभी लोगों के सामने आया है। वास्तव में यह फैसला सूझबूझ, परिपक्वता एवं गहरे चिंतन का ही परिणाम हो सकता है। पीएमओ ने निजी क्षेत्र के एग्जीक्यूटिव, सामाजिक कार्यकत्र्ता व शिक्षाविदें को आईएएस अफसरों की बराबरी के पदों पर तैनात करने …

Read More »

योग में आसन हमें शारीरिक रूप से मजबूत करता है तो प्राणायाम आंतरिक रूप से मजबूत बनाता है

21 जून को विश्वभर में योग दिवस मनाया जा रहा है। भारतीय संस्कृति सबसे प्राचीन संस्कृति में से एक है। यह वह संस्कृति है जिसने लम्बे समय तक स्वयं को बचाकर रखा है। विश्व की शायद ही कोई ऐसी संस्कृति है जिसका इतिहास भारतीय संस्कृति जितना पुराना और समृद्ध रहा …

Read More »

भ्रष्टाचार और अनैतिकता से मुक्त भारत कैसे बने ?

इन दिनों गोरखपुर के बाबा राघव दास मेडिकल कॉलेज अस्पताल में ऑक्सीजन की कमी से 64 लोगों की मृत्यु का मामला छाया हुआ है। यह बात चर्चा में रही कि पुष्पा सेल्स नामक कंपनी ऑक्सीजन सप्लाई करती है। यह भी ज्ञात हुआ कि 63 लाख रु. का भुगतान न होने …

Read More »

लोग जैसा सोचते हैं और अनुभव करते हैं समाज का निर्माण उसी अनुरूप हो जाता है।

बाहुबली व तीन तलाक का मुद्दा इस माह देश में काफी चर्चित रहा। साथ ही साथ पूनम छाबड़ा द्वारा शराब बंदी के मुद्दे पर किये गये प्रयास प्रदेश भर में काफी चर्चित रहे। आईये, इन मुद्दों पर जरा विचार करें। ये तीनों मुद्दे आज के समाज का आईना हैं और …

Read More »
Apply Online
Admissions open biyani girls college